Rahukaal Today/ 15 June 2017 (Delhi)-21 June 2017

  • Mon
  • Tue
  • Wed
  • Thu
  • Fri
  • Sat
  • Sun
Rahukaal Today
10:34:15 - 12:17:00

8:31:22 - 9:51:45
Rahukaal Today
8:51:00 - 10:34:00

7:14:52 - 8:58:45
Rahukaal Today
17:26:52 - 19:10:00

12:19:30 - 13:57:22
Rahukaal Today
7:10:15 - 8:52:30

13:57:37 - 15:35:45
Rahukaal Today
15:42:00 - 17:24:30

10:42:30 - 12:15:00
Rahukaal Today
12:17:00 - 13:59:30

9:10:30 - 10:42:45
Rahukaal Today
13:59:45 - 15:42:30

16:50:00 - 18:22:00
Remedies by Acharya Indu Prakash Mishra

Kandgras Solar Eclipse
There are no translations available.

विक्रम संवत २०७१-७२ सन२०१५-२०१६ के ग्रहणों का विवरण

इस वर्ष विक्रम संवत २०७२-७२ में कुल पांच ग्रहण लग रहे है | जिसमे तीन सूर्यग्रहण और दो चंद्रग्रहण है |इसमें से केवल एक सूर्य ग्रहण और दोनों चंद्रग्रहण भारतीय भूभाग पर दृश्य होंगे |

१.खण्डग्रास सूर्यग्रहण - २० मार्च २०१५ ई. चैत्र कृष्ण अमावस्या शुक्रवार ,उत्तरभाद्रपदा नक्षत्र मीन राशि पर लगेगा | यह ग्रहण भारतवर्ष में दृश्य नहीं होगा | यह ग्रहण उत्तरी  अमेरिका ,अफ्रीका ,पश्चिमोत्तर एशियाई क्षेत्र में दिखाई पड़ेगा | ग्रहण का स्पर्श भारतीय समयानुसार १३ बजकर ११ बजे ,मध्य १५ बजकर १६ बजे एवं मोक्ष १७ बजकर २० मिनट का होगा | ग्रहण का ग्रासमान १.०४४५ रहेगा | 

२ खग्रास चंद्रग्रहण - ४ अप्रैल २०१५ ई. चैत्र शुक्ल पूर्णिमा शनिवार ,हस्त नक्षत्र ,कन्या राशि पर लगेगा |यह ग्रहण भारतवर्ष में दृश्य होगा | इसके अतिरिक्त एशिया के अधिकांश क्षेत्र ,ऑस्ट्रेलिया ,उतरी अमेरिका ,दक्षिण अमेरिका ,अंटार्कटिका ,हिंदमहासागर व प्रशांत महासागरीय क्षेत्रों में दिखलाई  पड़ेगा | भारतवर्ष के सुदूरवर्ती पूर्वोत्तर क्षेत्र एवं अंडमान -निकोबार में ही ग्रहण के खग्रास की स्थिति दृश्य होगी | अन्य क्षेत्रों में खण्डग्रास चंद्रग्रहण ही दिखेगा | ग्रहण का स्पर्श भारतीय समयानुसार १४ बजकर ४५ मिनट ,मध्य १७ बजकर ३० मिनट एवं मोक्ष १९ बजकर १५ मिनट में होगा | ग्रहण के खग्रास की स्थति १७ बजकर २४ मिनट से १७ बजकर ३६ मिनट तक ,कुल १२ मिनट तक रहेगी | ग्रहण का ग्रासमान १.००६ रहेगा |

३ खण्डग्रास सूर्यग्रहण -१३ सितम्बर २०१५ ई.भाद्रपद कृष्ण अमावस्या रविवार पूर्वाफाल्गुनी नक्षत्र सिंह राशि पर लगेगा | यह ग्रहण भारतवर्ष में नहीं दिखेगा दक्षिणी अफ्रीका ,मेडागास्कर के दक्षिणी क्षेत्र के आधे भाग में ,हिंदमहासागर के दक्षिणी क्षेत्र एवं पूर्वी अंटाकर्टिका में यह ग्रहण दिखलाई पड़ेगा | भारतीय समयानुसार ग्रहण का स्पर्श १० बजकर १२  मिनट ,मध्य १२ बजकर २४ मिनट एवं मोक्ष १४ बजकर ३६ मिनट में होगा | ग्रहण का ग्रासमान ०.७८७३ रहेगा |

४.खग्रास चंद्रग्रहण -२८ सितम्बर २०१५ ई. भहाद्रपद शुक्ल पूर्णिमा सोमवार ,उत्तराभाद्रपद नक्षत्र ,मीन राशि पर लगेगा | यह ग्रहण भारतीय भूभाग के गुजरात के सुदूरवर्ती पश्चिमी क्षेत्र में अल्प काल के लिए दिखेगा | सामान्यतः इस ग्रहण का कोई भी प्रभाव भारतीय क्षेत्र में परिलक्षित नहीं होना चाहिए | यह ग्रहण पश्चिमी एशिया ,अफ्रीका ,यूरोप एवं अमेरिका में अलास्का के पश्चिमार्ध क्षेत्र में दिखेगा | भारतीयानुसार ग्रहण का स्पर्श ६ बजकर ३९ मिनट ,मध्य ८ बजकर १७ मिनट और मोक्ष ९ बजकर ५९ बजे होगा | ग्रहण का ग्रासमान १.२८२ रहेगा |

५.खग्रास सूर्यग्रहण -८/९ मार्च २०१६ ई. फाल्गुन कृष्ण १४ मंगल/बुधवार को अमावस्या तिथि में पूर्वाभाद्रपद नक्षत्र ,कुम्भ राशि पर लगेगा | भारतीय क्षेत्र में खण्डग्रास सूर्य ग्रहण दिखेगा | यह ग्रहण भारत सहित दक्षिण -पूर्वी एशिया ,थाईलैंड ,इंडोनेशिया ,दक्षिण कोरिया ,जापान ,ऑस्ट्रेलिया और प्रशांत महासागर के उत्तरीभाग में दिखेगा | खग्रास की स्तिथि सुमात्रा ,बोर्नियो,इंडोनेशिया के साथ प्रशांत महासागर के उत्तरी भाग में दिखेगा | ग्रहण का स्पर्श भारतीय समयानुसार ८ मार्च को २८ बजकर ४९ बजे ,मध्य ९ मार्च को ७ बजकर २७ मिनट एवं मोक्ष १० बजकर ५ मिनट में होगा | ग्रहण का ग्रासमान १.०४४ रहेगा |

सूतक -चंद्रग्रहण का सूतक ग्रहण प्रारम्भ होने से ८ घंटा पहले लाज जाता है | इस आधार पर सूतक शनिवार को १० बजकर १३ मिनट पर लग जाता है | इन्तु बालक ,वृद्ध ,रोगी ग्रहण प्रारम्भ होने के ४ घंटा पूर्व तक प्रथ्यहार ले सकते है | जिस नक्षत्र या राशि पर ग्रहण लगा है , उस पर जन्म लेने वाले जातक ,गर्भिणी एवं जिनका ग्रहणफल नेष्ट है | उन्हें ग्रहण  नहीं देखना चाहिए | सूतक काल में भोजन ,शयन,विषय सेवन,मूर्ति स्पर्श वर्जित है |

ग्रहण फल राशियों के अनुसार

मेष - सौख्य

वृष - चिंता

मिथुन - व्यथा

कर्क - श्रीप्राप्ति

सिंह - हानि

कन्या - घात

तुला -  क्षति

वृश्चिक-  लाभ

मकर - माननाश

धनु-  धन

कुम्भ - मृ.तु.क.

मीन - कष्ट

Share this post

Submit Kandgras Solar Eclipse in Delicious Submit Kandgras Solar Eclipse in Digg Submit Kandgras Solar Eclipse in FaceBook Submit Kandgras Solar Eclipse in Google Bookmarks Submit Kandgras Solar Eclipse in Stumbleupon Submit Kandgras Solar Eclipse in Technorati Submit Kandgras Solar Eclipse in Twitter
 
 
Valentine Day Remedies
There are no translations available.

Valentine Day  Remedies

वेलनटाइन डे, उपाय

कैसे बचाएं अपना प्यार -

(१) - गोरोचन, असगंध और हरताल को सम भाग में लेकर केले के रस में पीस लें, पिसे हुए पदार्थ का तिलक लगाएं | आपका प्रेम सम्बन्ध अटूट हो जाएगा |

(२) - सफ़ेद मदार यानी आक की जड़ को सफ़ेद चन्दन के साथ घिसें , इस लेप को पुरुष अपने मस्तक पर लगाएं, प्रेम सम्बन्ध बना रहेगा |

(३) - अनार के पाँचों अंग - फल, फूल, जड़, पत्ता और छाल को सफ़ेद घुंघुची के साथ पेस लें और इस लेप का तिलक लगायें | इस उपाय से प्रेमिका या पत्नी का प्रेमी या पति भटकाव से बचा रहता है |

(४) - कपूर और मेनसिल केले के रस के साथ पीस लें लेप का तिलक लगाएं | ऐसा करने से सदैव प्रेमी आपके प्रेम के वश में रहता है |

(५) - गोरोचन, कुमकुम और सिन्दूर को धात्री के रस के साथ पीस लें और फिर इस लेप का तिलक लगाएं | इस उपाय से स्त्रियाँ अपने प्रेमी या पति को वश में रख सकती हैं |

(६) - शंखाहुली, सिरस और राई को सफ़ेद गाय के दूध के साथ मिलाकर लेप तैयार करें | लेप को शरीर में लगाकर गर्म पानी से स्नान करें, स्नान के बाद केसर का तिलक लगाएं | इस उपाय से आपकी पत्नी या प्रेमिका कभी आपको छोड़कर नहीं जायेगी |

(७) - तुलसी के बीज को सहदेई के रस में पीसकर लेप तैयार करें | इस लेप का पुरुष तिलक करें | पत्नी या प्रेमिका आपको हमेशा पलकों पर रखेंगी

उपाय (८) - मन्त्र के द्वारा अपने प्यार की सुरक्षा -

ॐ हीं नम:

इस मन्त्र का एक सप्ताह तक रोज एक हजार बार जाप करें |

लाल कपड़ा पहनकर कुमकुम की माला धारण कर इस मन्त्र का जाप करें |

इस मन्त्र का विधिवत जाप करने प्रेमिका, पत्नी यहाँ तक कि स्वर्ग की अप्सरा भी आपको छोड़कर कहीं नहीं जा सकेगी |

उपाय (९) - केला में गोरोचन मिलाकर लेप तैयार करें कर लें | इस लेप को मस्तक पर लगाएं | ऐसा करने से स्त्री हो या पुरुष, आप जिस पर भी नजर डाल देंगे तो वो आपके वश में हो जाएगा |

कैसे बचाएं अपना प्यार यंत्र से :-

2        8       57      25

1       2        21       7

24      70     5       4

51        19     3       6

यह यंत्र स्त्रियों के लिए है

(10) - रविवार को जब पुष्य नक्षत्र हो तब इस यंत्र को प्याज के रस से लिखें | स्त्रियाँ इस यंत्र को अपनी बाईं भुजा पर बांधे ऐसा करने वाली स्त्री जिस पुरुष को देखेगी वो उसके वश में हो जाएगा |

(11) - खश, चन्दन और शहद को एक साथ मिलाकर लेप तैयार कर लें | इस लेप को लगातार बयालीस दिन तक मस्तक पर तिलक लगाएं | आपकी जोड़ी सदा बनी रहेगी |

(12) - अगर आपकी प्रेमिका आप का साथ छोड़ गईं हैं तो उसे वापस पाने का उपाय है

नारियल लेकर उसमे धतूरे का बीज रखें | शहद और कपूर मिलाकर इसे पीस लें, इस लेप को माथे पर तिलक लगाने से भटकी हुई प्रेमिका भी वापस आ जाती है |

भटकी प्रेमिका की वापसी के उपाय :- (1) - रविवार के दिन काले धतूरे का पंचांग लें | फल,फूल, पत्ता, जड़ और शाखा को केसर, गोरोचन और गोरी के साथ पीस लें | इस लेप का तिलक करने से पत्नी, प्रेमिका यहाँ तक की स्वर्ग से उतरी अप्सरा भी आपको छोड़कर नहीं जायेगी |

(2) - बुधवार को धिंक्वार की जड़ को भांग के बीज के साथ पीसकर लेप बनायें | इस लेप का तिलक लगाएं, भटकी प्रेमिका वापस आ जायेगी |

(3) - मैनसिल, गोरोचन और पान को एक साथ पीसकर लेप तैयार करें | इस लेप का तिलक लगाएं | ये उपाय मंगलवार के दिन करें |

(4) - मंगलवार को एक लाल धागा लेकर उसमे सात गांठे लगाएं |

ॐ हीं नम:

इस यंत्र को शुक्रवार तक रोज पांच सौ बार पढ़े |

शुक्रवार को गाँठ लगे धागे को अपनी कलाई में बाँध लें | पति - पत्नी, प्रेमिका कल्पना में भी एक दूसरे को छोड़ने की बात नहीं सोचेंगे |

प्रश्न :- अगर पति भटक जाए तो पत्नी को क्या करना चाहिए ?

उत्तर :- पति को भटकाव से बचाएं |

6      7    2

7      5    9

8      3     4

रविवार को केसर से भोजपत्र पर लिखें |

इस यंत्र को गले में धारण करें भटका हुआ पति या प्रेमी वापस आ जायेगा |

प्रश्न :- जब जोड़ियों के बीच लड़ाई झगड़ा होने से प्रेम सम्बन्ध खतरे में पड़ जाते हैं तो ऐसे में प्रेम उत्पन्न करने वाला यंत्र कितना कारगार है |

उत्तर :- प्रेम उत्पन्न करने वाला यंत्र -

 

11    8      1   10

   2     13    12    7

   19     3      6     9

       5      10     15   40

आपका साथी या प्रेमी आपसे प्रेम नहीं करता तो ये उपाय करें | इस यंत्र को केसर से भोजपत्र पर बना लें | इस यंत्र की बत्ती बना लें | एक कोरे मिट्टी के पात्र में तिल या कुजंड का तेल भर कर उसमे यह बत्ती रखकर दीपक जला दें | बत्ती का मुंह प्रेमी या प्रेमिका के घर की ओर रखें | सात दिन तक ऐसा करने से प्रेमी या प्रेमिका का दिल पिघल जायेगा और मुलाक़ात हो जायेगी |


 


वेलेंटाइन दिवस भविष्यवाणी

Share this post

Submit Valentine Day  Remedies in Delicious Submit Valentine Day  Remedies in Digg Submit Valentine Day  Remedies in FaceBook Submit Valentine Day  Remedies in Google Bookmarks Submit Valentine Day  Remedies in Stumbleupon Submit Valentine Day  Remedies in Technorati Submit Valentine Day  Remedies in Twitter