Rahukaal Today/ 25 February 2017 (Delhi)-3 March 2017

  • Mon
  • Tue
  • Wed
  • Thu
  • Fri
  • Sat
  • Sun
Rahukaal Today
8:12:52 - 9:39:45

8:31:22 - 9:51:45
Rahukaal Today
15:27:00 - 16:54:00

7:14:52 - 8:58:45
Rahukaal Today
12:33:00 - 14:00:15

12:19:30 - 13:57:22
Rahukaal Today
14:00:07 - 15:27:45

13:57:37 - 15:35:45
Rahukaal Today
11:04:15 - 12:32:00

10:42:30 - 12:15:00
Rahukaal Today
9:40:45 - 11:07:07

9:10:30 - 10:42:45
Rahukaal Today
16:53:22 - 18:20:00

16:50:00 - 18:22:00
Mata Annpurna ki Vrat Katha | Vasant Panchami Pooja | Indian Festival
अन्नपूर्णे सदापूर्णे
There are no translations available.

-:माता अन्नपूर्णा:-

माता अन्नपूर्णा का 21 दिवसीय यह व्रत अत्यन्त चमत्कारी फल देने वाला है। यह व्रत (अगहन) मार्गशीर्ष मास में शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से शुरू कर 21दिनों तक किया जाता है। इस व्रत में अगर व्रत न कर सकें तो एक समय भोजन करके भी व्रत का पालन किया जा सकता है। इस व्रत में सुबह घी का दीपक जला कर माता अन्नपूर्णा की कथा पढ़ें और भोग लगाएं । 

अन्नपूर्णे सदापूर्णे शंकर प्राण वल्लभे।

ज्ञान वैराग्य सिध्यर्थं भिक्षां देहि च पार्वति।।

माता च पार्वति देवी पिता देवो महेश्वरः।

बान्धवा शिव भक्ताश्च स्वदेशो भुवनत्रयम्।

एक समय की बात है। काशी निवासी धनंजय की पत्नी का नाम सुलक्षणा था । उसे अन्य सब सुख प्राप्त थे, केवल निर्धनता ही उसके दुःख का कारण थी। यह दुःख उसे हर समय सताता था । एक दिन सुलक्षणा पति से बोली- स्वामी! आप कुछ उद्यम करो तो काम चले । इस प्रकार कब तक काम चलेगा ? सुलक्षण्णा की बात धनंजय के मन में बैठ और वह उसी दिन विश्वनाथ शंकर जी को प्रसन्न करने के लिए बैठ गया और कहने लगा- हे देवाधिदेव विश्वेश्वर ! मुझे पूजा-पाठ कुछ आता नहीं है, केवल तुम्हारे भरोसे बैठा हूँ । इतनी विनती करके वह दो-तीन दिन भूखा-प्यासा बैठा रहा । यह देखकर भगवान शंकर ने उसके कान में ‘अन्नपूर्णा ! अन्नपूर्णा!! अन्नपूर्णा!!!’ इस प्रकार तीन बार कहा। यह कौन, क्या कह गया ? इसी सोच में धनंजय पड़ गया कि मन्दिर से आते ब्राह्मणों को देखकर पूछने लगा- पंडितजी ! अन्नपूर्णा कौन है ? ब्राह्मणों ने कहा- तू अन्न छोड़ बैठा है, सो तुझे अन्न की ही बात सूझती है । जा घर जाकर अन्न ग्रहण कर । धनंजय घर गया, स्त्री से सारी बात कही, वह बोली-नाथ! चिंता मत करो, स्वयं शंकरजी ने यह मंत्र दिया है। वे स्वयं ही खुलासा करेंगे। आप फिर जाकर उनकी आराधना करो । धनंजय फिर जैसा का तैसा पूजा में बैठ गया। रात्रि में शंकर जी ने आज्ञा दी । कहा- तू पूर्व दिशा में चला जा । वह अन्नपूर्णा का नाम जपता जाता और रास्ते में फल खाता, झरनों का पानी पीता जाता । इस प्रकार कितने ही दिनों तक चलता गया । वहां उसे चांदी सी चमकती बन की शोभा देखने में आई । सुन्दर सरोवर देखने में या, उसके किनारे कितनी ही अप्सराएं झुण्ड बनाए बैठीं थीं । एक कथा कहती थीं । और सब ‘मां अन्नपूर्णा’ इस प्रकार बार-बार कहती थीं।

यह अगहन मास की उजेली रात्रि थी और आज से ही व्रत का ए आरम्भ था । जिस शब्द की खोज करने वह निकला था, वह उसे वहां सुनने को मिला । धनंजय ने उनके पास जाकर पूछा- हे देवियो ! आप यह क्या करती हो? उन सबने कहा हम सब मां अन्नपूर्णा का व्रत करती हैं । व्रत करने से गई पूजा क्या होता है? यह किसी ने किया भी है? इसे कब किया जाए? कैसा व्रत है में और कैसी विधि है? मुझसे भी कहो। वे कहने लगीं- इस व्रत को सब कोईकर सकते हैं । इक्कीस दिन तक के लिए 21 गांठ का सूत लेना चाहिए । 21 दिन यदि न बनें तो एक दिन उपवास करें, यह भी न बनें तो केवलकथा सुनकर प्रसाद लें। निराहार रहकर कथा कहें, कथा सुनने वाला कोई न मिले तो पीपल के पत्तों को रख सुपारी या घृत कुमारी (गुवारपाठ) वृक्ष को सामने कर दीपक को साक्षी कर सूर्य, गाय, तुलसी या महादेव को बिना कथा सुनाए मुख में दाना न डालें। यदि भूल से कुछ पड़ जाए तो एक दिवस फिर उपवास करें। व्रत के दिन क्रोध न करें और झूठ न बोलें। धनंजय बोला- इस व्रत के करने से क्या होगा ? वे कहने लगीं- इसके करने से अन्धों को नेत्र मिले, लूलों को हाथ मिले, निर्धन के घर धन आए, बांझी को संतान मिले, मूर्ख को विद्या आए, जो जिस कामना से व्रत करे, मां उसकी इच्छा पूरी करती है। वह कहने लगा- बहिनों! मेरे भी धन नहीं है, विद्या नहीं है, कुछ भी तो नहीं है, मैं तो दुखिया ब्राह्मण हूँ, मुझे इस व्रत का सूत दोगी? हां भाई तेरा कल्याण हो , तुझे देंगी, ले इस व्रत का मंगलसूत ले। धनंजय ने व्रत किया । व्रत पूरा हुआ, तभी सरोवर में से 21 खण्ड की सुवर्ण सीढ़ी हीरा मोती जड़ी हुई प्रकट हुई। धनंजय जय ‘अन्नपूर्णा’ ‘अन्नपूर्णा’ कहता जाता था। इस प्रकार कितनी ही सीढि़यां उतर गया तो क्या देखता है कि करोड़ों सूर्य से प्रकाशमान अन्नपूर्णा का मन्दिर है, उसके सामने सुवर्ण सिंघासन पर माता अन्नपूर्णा विराजमान हैं। सामने भिक्षा हेतु शंकर भगवान खड़े हैं। देवांगनाएं चंवर डुलाती हैं। कितनी ही हथियार बांधे पहरा देती हैं। धनंजय दौड़कर जगदम्बा के चरणों में गिर गया। देवी उसके मन का क्लेश जान गईं । धनंजय कहने लगा- माता! आप तो अन्तर्यामिनी हो। आपको अपनी दशा क्या बताऊँ ? माता बोली - मेरा व्रत किया है, जा संसार तेरा सत्कार करेगा । माता ने धनंजय की जिह्नवा पर बीज मंत्र लिख दिया । अब तो उसके रोम-रोम में विद्या प्रकट हो गई । इतने में क्या देखता है कि वह काशी विश्वनाथ के मन्दिर में खड़ा है। मां का वरदान ले धनंजय घर आया । सुलक्षणा से सब बात कही । माता जी की कृपा से उसके घर में सम्पत्ति उमड़ने लगी। छोटा सा घर बहुत बड़ा गिना जाने लगा। जैसे शहद के छत्ते में मक्खियां जमा होती हैं, उसी प्रकार अनेक सगे सम्बंधी आकर उसकी बड़ाई करने लगे। कहने लगे-इतना धन और इतना बड़ा घर, सुन्दर संतान नहीं तो इस कमाई का कौन भोग करेगा? सुलक्षणा से संतान नहीं है, इसलिए तुम दूसरा विवाह करो । अनिच्छा होते हुए भी धनंजय को दूसरा विवाह करना पड़ा और सती सुलक्षणा को सौत का दुःख उठाना पड़ा । इस प्रकार दिन बीतते गय फिर अगहन मास आया। नये बंधन से बंधे पति से सुलक्षणा ने कहलाया कि हम व्रत के प्रभाव से सुखी हुए हैं । इस कारण यह व्रत छोड़ना नहीं चाहिए । यह माता जी का प्रताप है। जो हम इतने सम्पन्न और सुखी हैं । सुलक्षणा की बात सुन धनंजय उसके यहां आया और व्रत में बैठ गया। नयी बहू को इस व्रत की खबर नहीं थी। वह धनंजय के आने की राह देख रही थी । दिन बीतते गये और व्रत पूर्ण होने में तीन दिवस बाकी थे कि नयी बहू को खबर पड़ी। उसके मन में ईष्र्या की ज्वाला दहक रही थी । सुलक्षणा के घर आ पहुँची ओैर उसने वहां भगदड़ मचा दी । वह धनंजय को अपने साथ ले गई । नये घर में धनंजय को थोड़ी देर के लिए निद्रा ने आ दबाया । इसी समय नई बहू ने उसका व्रत का सूत तोड़कर आग में फेंक दिया । अब तो माता जी का कोप जाग गया । घर में अकस्मात आग लग गई, सब कुछ जलकर खाक हो गया । सुलक्षणा जान गई और पति को फिर अपने घर ले आई । नई बहू रूठ कर पिता के घर जा बैठी । पति को परमेश्वर मानने वाली सुलक्षणा बोली- नाथ ! घबड़ाना नहीं । माता जी की कृपा अलौकिक है । पुत्र कुपुत्र हो जाता है पर माता कुमाता नहीं होती। अब आप श्रद्धा और भक्ति से आराधना शुरू करो। वे जरूर हमारा कल्याण करेंगी । धनंजय फिर माता के पीछे पड़ गया। फिर वहीं सरोवर सीढ़ी प्रकट हुई, उसमें ‘ मां अन्नपूर्णा’ कहकर वह उतर गया। वहां जा माता जी के चरणों में रुदन करने लगा । माता प्रसन्न हो बोलीं-यह मेरी स्वर्ण की मूर्ति ले, उसकी पूजा करना, तू फिर सुखी हो जायेगा, जा तुझे मेरा आशीर्वाद है । तेरी स्त्री सुलक्षणा ने श्रद्धा से मेरा व्रत किया है, उसे मैंने पुत्र दिया है । धनंजय ने आँखें खोलीं तो खुद को काशी विश्वनाथ के मन्दिर में खड़ा पाया । वहां से फिर उसी प्रकार घर को आया । इधर सुलक्षणा के दिन चढ़े और महीने पूरे होते ही पुत्र का जन्म हुआ । गांव में आश्चर्य की लहर दौड़ गई । मानता आने लगा। इस प्रकार उसी गांव के निःसंतान सेठ के पुत्र होने पर उसने माता अन्नपूर्णा का मन्दिर बनवा दिया, उसमें माता जी धूमधाम से पधारीं, यज्ञ किया और धनंजय को मन्दिर के आचार्य का पद दे दिया । जीविका के लिए मन्दिर की दक्षिणा और रहने के लिए बड़ा सुन्दर सा भवन दिया। धनंजय स्त्री-पुत्र सहित वहां रहने लगा । माता जी की चढ़ावे में भरपूर आमदनी होने लगी। उधर नई बहू के पिता के घर डाका पड़ा, सब लुट गया, वे भीख मांगकर पेट भरने लगे । सुलक्षणा ने यह सुना तो उन्हे बुला भेजा, अलग घर में रख लिया और उनके अन्न-वस्त्र का प्रबंध कर दिया । धनंजय, सुलक्षणा और उसका पुत्र माता जी की कृपा से आनन्द से रहने लगे। माता जी ने जैसे इनके भण्डार भरे वैसे सबके भण्डार भरें।

 

जाकी जैसी भावना ताको वैसा सिद्ध।

हँस मोती चुगत है मुरदा चीखत गिद्ध।।

सत्य भावना देव में सकल सिद्ध का मूल।

बिना भाव भटक्यो फिरे खोवै समय फिजूल।।

 

 

माता अन्नपूर्णा का 21 दिवसीय यह व्रत अत्यन्त चमत्कारी फल देने वाला है। यह व्रत (अगहन) मार्गशीर्ष मास में शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से शुरू कर 21दिनों तक किया जाता है। इस व्रत में अगर व्रत न कर सकें तो एक समय भोजन करके भी व्रत का पालन किया जा सकता है। इस व्रत में सुबह घी का दीपक जला कर माता अन्नपूर्णा की कथा पढ़ें और भोग लगाएं । अगर उपवास न भी कर सकें तो पूजा अवश्य करें। 

अन्नपूर्णे सदापूर्णे शंकर प्राण वल्लभे।
ज्ञान वैराग्य सिध्यर्थं भिक्षां देहि च पार्वति।।
माता च पार्वति देवी पिता देवो महेश्वरः।
बान्धवा शिव भक्ताश्च स्वदेशो भुवनत्रयम्।

 

एक समय की बात है। काशी निवासी धनंजय की पत्नी का नाम सुलक्षणा था । उसे अन्य सब सुख प्राप्त थे, केवल निर्धनता ही उसके दुःख का कारण थी। यह दुःख उसे हर समय सताता था । एक दिन सुलक्षणा पति से बोली- स्वामी! आप कुछ उद्यम करो तो काम चले । इस प्रकार कब तक काम चलेगा ? सुलक्षण्णा की बात धनंजय के मन में बैठ और वह उसी दिन विश्वनाथ शंकर जी को प्रसन्न करने के लिए बैठ गया और कहने लगा- हे देवाधिदेव विश्वेश्वर ! मुझे पूजा-पाठ कुछ आता नहीं है, केवल तुम्हारे भरोसे बैठा हूँ । इतनी विनती करके वह दो-तीन दिन भूखा-प्यासा बैठा रहा । यह देखकर भगवान शंकर ने उसके कान में ‘अन्नपूर्णा ! अन्नपूर्णा!! अन्नपूर्णा!!!’ इस प्रकार तीन बार कहा। यह कौन, क्या कह गया ? इसी सोच में धनंजय पड़ गया कि मन्दिर से आते ब्राह्मणों को देखकर पूछने लगा- पंडितजी ! अन्नपूर्णा कौन है ? ब्राह्मणों ने कहा- तू अन्न छोड़ बैठा है, सो तुझे अन्न की ही बात सूझती है । जा घर जाकर अन्न ग्रहण कर । धनंजय घर गया, स्त्री से सारी बात कही, वह बोली-नाथ! चिंता मत करो, स्वयं शंकरजी ने यह मंत्र दिया है। वे स्वयं ही खुलासा करेंगे। आप फिर जाकर उनकी आराधना करो । धनंजय फिर जैसा का तैसा पूजा में बैठ गया। रात्रि में शंकर जी ने आज्ञा दी । कहा- तू पूर्व दिशा में चला जा । वह अन्नपूर्णा का नाम जपता जाता और रास्ते में फल खाता, झरनों का पानी पीता जाता । इस प्रकार कितने ही दिनों तक चलता गया । वहां उसे चांदी सी चमकती बन की शोभा देखने में आई । सुन्दर सरोवर देखने में या, उसके किनारे कितनी ही अप्सराएं झुण्ड बनाए बैठीं थीं । एक कथा कहती थीं । और सब ‘मां अन्नपूर्णा’ इस प्रकार बार-बार कहती थीं।

यह अगहन मास की उजेली रात्रि थी और आज से ही व्रत का ए आरम्भ था । जिस शब्द की खोज करने वह निकला था, वह उसे वहां सुनने को मिला । धनंजय ने उनके पास जाकर पूछा- हे देवियो ! आप यह क्या करती हो? उन सबने कहा हम सब मां अन्नपूर्णा का व्रत करती हैं । व्रत करने से गई पूजा क्या होता है? यह किसी ने किया भी है? इसे कब किया जाए? कैसा व्रत है में और कैसी विधि है? मुझसे भी कहो। वे कहने लगीं- इस व्रत को सब कोईकर सकते हैं । इक्कीस दिन तक के लिए 21 गांठ का सूत लेना चाहिए । 21 दिन यदि न बनें तो एक दिन उपवास करें, यह भी न बनें तो केवलकथा सुनकर प्रसाद लें। निराहार रहकर कथा कहें, कथा सुनने वाला कोई न मिले तो पीपल के पत्तों को रख सुपारी या घृत कुमारी (गुवारपाठ) वृक्ष को सामने कर दीपक को साक्षी कर सूर्य, गाय, तुलसी या महादेव को बिना कथा सुनाए मुख में दाना न डालें। यदि भूल से कुछ पड़ जाए तो एक दिवस फिर उपवास करें। व्रत के दिन क्रोध न करें और झूठ न बोलें। धनंजय बोला- इस व्रत के करने से क्या होगा ? वे कहने लगीं- इसके करने से अन्धों को नेत्र मिले, लूलों को हाथ मिले, निर्धन के घर धन आए, बांझी को संतान मिले, मूर्ख को विद्या आए, जो जिस कामना से व्रत करे, मां उसकी इच्छा पूरी करती है। वह कहने लगा- बहिनों! मेरे भी धन नहीं है, विद्या नहीं है, कुछ भी तो नहीं है, मैं तो दुखिया ब्राह्मण हूँ, मुझे इस व्रत का सूत दोगी? हां भाई तेरा कल्याण हो , तुझे देंगी, ले इस व्रत का मंगलसूत ले। धनंजय ने व्रत किया । व्रत पूरा हुआ, तभी सरोवर में से 21 खण्ड की सुवर्ण सीढ़ी हीरा मोती जड़ी हुई प्रकट हुई। धनंजय जय ‘अन्नपूर्णा’ ‘अन्नपूर्णा’ कहता जाता था। इस प्रकार कितनी ही सीढि़यां उतर गया तो क्या देखता है कि करोड़ों सूर्य से प्रकाशमान अन्नपूर्णा का मन्दिर है, उसके सामने सुवर्ण सिंघासन पर माता अन्नपूर्णा विराजमान हैं। सामने भिक्षा हेतु शंकर भगवान खड़े हैं। देवांगनाएं चंवर डुलाती हैं। कितनी ही हथियार बांधे पहरा देती हैं। धनंजय दौड़कर जगदम्बा के चरणों में गिर गया। देवी उसके मन का क्लेश जान गईं । धनंजय कहने लगा- माता! आप तो अन्तर्यामिनी हो। आपको अपनी दशा क्या बताऊँ ? माता बोली - मेरा व्रत किया है, जा संसार तेरा सत्कार करेगा । माता ने धनंजय की जिह्नवा पर बीज मंत्र लिख दिया । अब तो उसके रोम-रोम में विद्या प्रकट हो गई । इतने में क्या देखता है कि वह काशी विश्वनाथ के मन्दिर में खड़ा है। मां का वरदान ले धनंजय घर आया । सुलक्षणा से सब बात कही । माता जी की कृपा से उसके घर में सम्पत्ति उमड़ने लगी। छोटा सा घर बहुत बड़ा गिना जाने लगा। जैसे शहद के छत्ते में मक्खियां जमा होती हैं, उसी प्रकार अनेक सगे सम्बंधी आकर उसकी बड़ाई करने लगे। कहने लगे-इतना धन और इतना बड़ा घर, सुन्दर संतान नहीं तो इस कमाई का कौन भोग करेगा? सुलक्षणा से संतान नहीं है, इसलिए तुम दूसरा विवाह करो । अनिच्छा होते हुए भी धनंजय को दूसरा विवाह करना पड़ा और सती सुलक्षणा को सौत का दुःख उठाना पड़ा । इस प्रकार दिन बीतते गय फिर अगहन मास आया। नये बंधन से बंधे पति से सुलक्षणा ने कहलाया कि हम व्रत के प्रभाव से सुखी हुए हैं । इस कारण यह व्रत छोड़ना नहीं चाहिए । यह माता जी का प्रताप है। जो हम इतने सम्पन्न और सुखी हैं । सुलक्षणा की बात सुन धनंजय उसके यहां आया और व्रत में बैठ गया। नयी बहू को इस व्रत की खबर नहीं थी । वह धनंजय के आने की राह देख रही थी । दिन बीतते गये और व्रत पूर्ण होने में तीन दिवस बाकी थे कि नयी बहू को खबर पड़ी। उसके मन में ईष्र्या की ज्वाला दहक रही थी । सुलक्षणा के घर आ पहुँची ओैर उसने वहां भगदड़ मचा दी । वह धनंजय को अपने साथ ले गई । नये घर में धनंजय को थोड़ी देर के लिए निद्रा ने आ दबाया । इसी समय नई बहू ने उसका व्रत का सूत तोड़कर आग में फेंक दिया । अब तो माता जी का कोप जाग गया । घर में अकस्मात आग लग गई, सब कुछ जलकर खाक हो गया । सुलक्षणा जान गई और पति को फिर अपने घर ले आई । नई बहू रूठ कर पिता के घर जा बैठी । पति को परमेश्वर मानने वाली सुलक्षणा बोली- नाथ ! घबड़ाना नहीं । माता जी की कृपा अलौकिक है । पुत्र कुपुत्र हो जाता है पर माता कुमाता नहीं होती। अब आप श्रद्धा और भक्ति से आराधना शुरू करो। वे जरूर हमारा कल्याण करेंगी । धनंजय फिर माता के पीछे पड़ गया। फिर वहीं सरोवर सीढ़ी प्रकट हुई, उसमें ‘ मां अन्नपूर्णा’ कहकर वह उतर गया। वहां जा माता जी के चरणों में रुदन करने लगा । माता प्रसन्न हो बोलीं-यह मेरी स्वर्ण की मूर्ति ले, उसकी पूजा करना, तू फिर सुखी हो जायेगा, जा तुझे मेरा आशीर्वाद है । तेरी स्त्री सुलक्षणा ने श्रद्धा से मेरा व्रत किया है, उसे मैंने पुत्र दिया है । धनंजय ने आँखें खोलीं तो खुद को काशी विश्वनाथ के मन्दिर में खड़ा पाया । वहां से फिर उसी प्रकार घर को आया । इधर सुलक्षणा के दिन चढ़े और महीने पूरे होते ही पुत्र का जन्म हुआ । गांव में आश्चर्य की लहर दौड़ गई । मानता आने लगा। इस प्रकार उसी गांव के निःसंतान सेठ के पुत्र होने पर उसने माता अन्नपूर्णा का मन्दिर बनवा दिया, उसमें माता जी धूमधाम से पधारीं, यज्ञ किया और धनंजय को मन्दिर के आचार्य का पद दे दिया । जीविका के लिए मन्दिर की दक्षिणा और रहने के लिए बड़ा सुन्दर सा भवन दिया। धनंजय स्त्री-पुत्र सहित वहां रहने लगा । माता जी की चढ़ावे में भरपूर आमदनी होने लगी। उधर नई बहू के पिता के घर डाका पड़ा, सब लुट गया, वे भीख मांगकर पेट भरने लगे । सुलक्षणा ने यह सुना तो उन्हे बुला भेजा, अलग घर में रख लिया और उनके अन्न-वस्त्र का प्रबंध कर दिया । धनंजय, सुलक्षणा और उसका पुत्र माता जी की कृपा से आनन्द से रहने लगे। माता जी ने जैसे इनके भण्डार भरे वैसे सबके भण्डार भरें।


जाकी जैसी भावना ताको वैसा सि(।
हँस मोती चुगत है मुरदा चीखत गि(।।
सत्य भावना देव में सकल सि( का मूल।
बिना भाव भटक्यो फिरे खोवै समय फिजूल।।

ekrk vUuiw.kkZ dk 21 fnolh; ;g ozr vR;Ur peRdkjh Qy nsus okyk gSA ;g ozr ¼vxgu½ ekxZ'kh"kZ ekl esa 'kqDy i{k dh çfrink ls 'kq: dj 21fnuksa rd fd;k tkrk gSA bl ozr esa vxj ozr u dj ldsa rks ,d le; Hkkstu djds Hkh ozr dk ikyu fd;k tk ldrk gSA bl ozr esa lqcg ?kh dk nhid tyk dj ekrk vUuiw.kkZ dh dFkk i<+sa vkSj Hkksx yxk,a A 

vUuiw.ksZ lnkiw.ksZ 'kadj çk.k oYyHksA

Kku oSjkX; fl/;FkaZ fHk{kka nsfg p ikoZfrAA

ekrk p ikoZfr nsoh firk nsoks egs'oj%A

ckU/kok f'ko Hkäk'p Lons'kks Hkqou=;EA

,d le; dh ckr gSA dk'kh fuoklh /kuat; dh iRuh dk uke lqy{k.kk Fkk A mls vU; lc lq[k çkIr Fks] dsoy fu/kZurk gh mlds nq%[k dk dkj.k FkhA ;g nq%[k mls gj le; lrkrk Fkk A ,d fnu lqy{k.kk ifr ls cksyh& Lokeh! vki dqN m|e djks rks dke pys A bl çdkj dc rd dke pysxk \ lqy{k..kk dh ckr /kuat; ds eu esa cSB vkSj og mlh fnu fo'oukFk 'kadj th dks çlUu djus ds fy, cSB x;k vkSj dgus yxk& gs nsokf/knso fo'os'oj ! eq>s iwtk&ikB dqN vkrk ugha gS] dsoy rqEgkjs Hkjksls cSBk gw¡ A bruh fourh djds og nks&rhu fnu Hkw[kk&I;klk cSBk jgk A ;g ns[kdj Hkxoku 'kadj us mlds dku esa ^vUuiw.kkZ ! vUuiw.kkZ!! vUuiw.kkZ!!!* bl çdkj rhu ckj dgkA ;g dkSu] D;k dg x;k \ blh lksp esa /kuat; iM+ x;k fd efUnj ls vkrs czkã.kksa dks ns[kdj iwNus yxk& iafMrth ! vUuiw.kkZ dkSu gS \ czkã.kksa us dgk& rw vUu NksM+ cSBk gS] lks rq>s vUu dh gh ckr lw>rh gS A tk ?kj tkdj vUu xzg.k dj A /kuat; ?kj x;k] L=h ls lkjh ckr dgh] og cksyh&ukFk! fpark er djks] Lo;a 'kadjth us ;g ea= fn;k gSA os Lo;a gh [kqyklk djsaxsA vki fQj tkdj mudh vkjk/kuk djks A /kuat; fQj tSlk dk rSlk iwtk esa cSB x;kA jkf= esa 'kadj th us vkKk nh A dgk& rw iwoZ fn'kk esa pyk tk A og vUuiw.kkZ dk uke tirk tkrk vkSj jkLrs esa Qy [kkrk] >juksa dk ikuh ihrk tkrk A bl çdkj fdrus gh fnuksa rd pyrk x;k A ogka mls pkanh lh pedrh cu dh 'kksHkk ns[kus esa vkbZ A lqUnj ljksoj ns[kus esa ;k] mlds fdukjs fdruh gh vIljk,a >q.M cuk, cSBha Fkha A ,d dFkk dgrh Fkha A vkSj lc ^eka vUuiw.kkZ* bl çdkj ckj&ckj dgrh FkhaA

;g vxgu ekl dh mtsyh jkf= Fkh vkSj vkt ls gh ozr dk , vkjEHk Fkk A ftl 'kCn dh [kkst djus og fudyk Fkk] og mls ogka lquus dks feyk A /kuat; us muds ikl tkdj iwNk& gs nsfo;ks ! vki ;g D;k djrh gks\ mu lcus dgk ge lc eka vUuiw.kkZ dk ozr djrh gSa A ozr djus ls xbZ iwtk D;k gksrk gS\ ;g fdlh us fd;k Hkh gS\ bls dc fd;k tk,\ dSlk ozr gS esa vkSj dSlh fof/k gS\ eq>ls Hkh dgksA os dgus yxha& bl ozr dks lc dksbZdj ldrs gSa A bDdhl fnu rd ds fy, 21 xkaB dk lwr ysuk pkfg, A 21 fnu ;fn u cusa rks ,d fnu miokl djsa] ;g Hkh u cusa rks dsoydFkk lqudj çlkn ysaA fujkgkj jgdj dFkk dgsa] dFkk lquus okyk dksbZ u feys rks ihiy ds iÙkksa dks j[k lqikjh ;k ?k`r dqekjh ¼xqokjikB½ o`{k dks lkeus dj nhid dks lk{kh dj lw;Z] xk;] rqylh ;k egknso dks fcuk dFkk lquk, eq[k esa nkuk u MkysaA ;fn Hkwy ls dqN iM+ tk, rks ,d fnol fQj miokl djsaA ozr ds fnu Øks/k u djsa vkSj >wB u cksysaA /kuat; cksyk& bl ozr ds djus ls D;k gksxk \ os dgus yxha& blds djus ls vU/kksa dks us= feys] ywyksa dks gkFk feys] fu/kZu ds ?kj /ku vk,] cka>h dks larku feys] ew[kZ dks fo|k vk,] tks ftl dkeuk ls ozr djs] eka mldh bPNk iwjh djrh gSA og dgus yxk& cfguksa! esjs Hkh /ku ugha gS] fo|k ugha gS] dqN Hkh rks ugha gS] eSa rks nqf[k;k czkã.k gw¡] eq>s bl ozr dk lwr nksxh\ gka HkkbZ rsjk dY;k.k gks ] rq>s nsaxh] ys bl ozr dk eaxylwr ysA /kuat; us ozr fd;k A ozr iwjk gqvk] rHkh ljksoj esa ls 21 [k.M dh lqo.kZ lh<+h ghjk eksrh tM+h gqbZ çdV gqbZA /kuat; t; ^vUuiw.kkZ* ^vUuiw.kkZ* dgrk tkrk FkkA bl çdkj fdruh gh lhf<+;ka mrj x;k rks D;k ns[krk gS fd djksM+ksa lw;Z ls çdk'keku vUuiw.kkZ dk efUnj gS] mlds lkeus lqo.kZ fla?kklu ij ekrk vUuiw.kkZ fojkteku gSaA lkeus fHk{kk gsrq 'kadj Hkxoku [kM+s gSaA nsokaxuk,a paoj Mqykrh gSaA fdruh gh gfFk;kj cka/ks igjk nsrh gSaA /kuat; nkSM+dj txnEck ds pj.kksa esa fxj x;kA nsoh mlds eu dk Dys'k tku xbZa A /kuat; dgus yxk& ekrk! vki rks vUr;kZfeuh gksA vkidks viuh n'kk D;k crkÅ¡ \ ekrk cksyh & esjk ozr fd;k gS] tk lalkj rsjk lRdkj djsxk A ekrk us /kuat; dh ftàok ij cht ea= fy[k fn;k A vc rks mlds jkse&jkse esa fo|k çdV gks xbZ A brus esa D;k ns[krk gS fd og dk'kh fo'oukFk ds efUnj esa [kM+k gSA eka dk ojnku ys /kuat; ?kj vk;k A lqy{k.kk ls lc ckr dgh A ekrk th dh —ik ls mlds ?kj esa lEifÙk meM+us yxhA NksVk lk ?kj cgqr cM+k fxuk tkus yxkA tSls 'kgn ds NÙks esa efD[k;ka tek gksrh gSa] mlh çdkj vusd lxs lEca/kh vkdj mldh cM+kbZ djus yxsA dgus yxs&bruk /ku vkSj bruk cM+k ?kj] lqUnj larku ugha rks bl dekbZ dk dkSu Hkksx djsxk\ lqy{k.kk ls larku ugha gS] blfy, rqe nwljk fookg djks A vfuPNk gksrs gq, Hkh /kuat; dks nwljk fookg djuk iM+k vkSj lrh lqy{k.kk dks lkSr dk nq%[k mBkuk iM+k A bl çdkj fnu chrrs x; fQj vxgu ekl vk;kA u;s ca/ku ls ca/ks ifr ls lqy{k.kk us dgyk;k fd ge ozr ds çHkko ls lq[kh gq, gSa A bl dkj.k ;g ozr NksM+uk ugha pkfg, A ;g ekrk th dk çrki gSA tks ge brus lEiUu vkSj lq[kh gSa A lqy{k.kk dh ckr lqu /kuat; mlds ;gka vk;k vkSj ozr esa cSB x;kA u;h cgw dks bl ozr dh [kcj ugha FkhA og /kuat; ds vkus dh jkg ns[k jgh Fkh A fnu chrrs x;s vkSj ozr iw.kZ gksus esa rhu fnol ckdh Fks fd u;h cgw dks [kcj iM+hA mlds eu esa bZ";kZ dh Tokyk ngd jgh Fkh A lqy{k.kk ds ?kj vk igq¡ph vksSj mlus ogka HkxnM+ epk nh A og /kuat; dks vius lkFk ys xbZ A u;s ?kj esa /kuat; dks FkksM+h nsj ds fy, fuæk us vk nck;k A blh le; ubZ cgw us mldk ozr dk lwr rksM+dj vkx esa Qsad fn;k A vc rks ekrk th dk dksi tkx x;k A ?kj esa vdLekr vkx yx xbZ] lc dqN tydj [kkd gks x;k A lqy{k.kk tku xbZ vkSj ifr dks fQj vius ?kj ys vkbZ A ubZ cgw :B dj firk ds ?kj tk cSBh A ifr dks ijes'oj ekuus okyh lqy{k.kk cksyh& ukFk ! ?kcM+kuk ugha A ekrk th dh —ik vykSfdd gS A iq= dqiq= gks tkrk gS ij ekrk dqekrk ugha gksrhA vc vki J)k vkSj Hkfä ls vkjk/kuk 'kq: djksA os t:j gekjk dY;k.k djsaxh A /kuat; fQj ekrk ds ihNs iM+ x;kA fQj ogha ljksoj lh<+h çdV gqbZ] mlesa ^ eka vUuiw.kkZ* dgdj og mrj x;kA ogka tk ekrk th ds pj.kksa esa #nu djus yxk A ekrk çlUu gks cksyha&;g esjh Lo.kZ dh ewfrZ ys] mldh iwtk djuk] rw fQj lq[kh gks tk;sxk] tk rq>s esjk vk'khokZn gS A rsjh L=h lqy{k.kk us J)k ls esjk ozr fd;k gS] mls eSaus iq= fn;k gS A /kuat; us vk¡[ksa [kksyha rks [kqn dks dk'kh fo'oukFk ds efUnj esa [kM+k ik;k A ogka ls fQj mlh çdkj ?kj dks vk;k A b/kj lqy{k.kk ds fnu p<+s vkSj eghus iwjs gksrs gh iq= dk tUe gqvk A xkao esa vk'p;Z dh ygj nkSM+ xbZ A ekurk vkus yxkA bl çdkj mlh xkao ds fu%larku lsB ds iq= gksus ij mlus ekrk vUuiw.kkZ dk efUnj cuok fn;k] mlesa ekrk th /kwe/kke ls i/kkjha] ;K fd;k vkSj /kuat; dks efUnj ds vkpk;Z dk in ns fn;k A thfodk ds fy, efUnj dh nf{k.kk vkSj jgus ds fy, cM+k lqUnj lk Hkou fn;kA /kuat; L=h&iq= lfgr ogka jgus yxk A ekrk th dh p<+kos esa Hkjiwj vkenuh gksus yxhA m/kj ubZ cgw ds firk ds ?kj Mkdk iM+k] lc yqV x;k] os Hkh[k ekaxdj isV Hkjus yxs A lqy{k.kk us ;g lquk rks mUgs cqyk Hkstk] vyx ?kj esa j[k fy;k vkSj muds vUu&oL= dk çca/k dj fn;k A /kuat;] lqy{k.kk vkSj mldk iq= ekrk th dh —ik ls vkuUn ls jgus yxsA ekrk th us tSls buds Hk.Mkj Hkjs oSls lcds Hk.Mkj HkjsaA

 

tkdh tSlh Hkkouk rkdks oSlk fl)A

g¡l eksrh pqxr gS eqjnk ph[kr fx)AA

lR; Hkkouk nso esa ldy fl) dk ewyA

fcuk Hkko HkVD;ks fQjs [kksoS le; fQtwyAA

 

Share this post

Submit अन्नपूर्णे सदापूर्णे in Delicious Submit अन्नपूर्णे सदापूर्णे in Digg Submit अन्नपूर्णे सदापूर्णे in FaceBook Submit अन्नपूर्णे सदापूर्णे in Google Bookmarks Submit अन्नपूर्णे सदापूर्णे in Stumbleupon Submit अन्नपूर्णे सदापूर्णे in Technorati Submit अन्नपूर्णे सदापूर्णे in Twitter