Rahukaal Today/ 09 AUGUST 2017 (Delhi)-15 AUGUST 2017

  • Mon
  • Tue
  • Wed
  • Thu
  • Fri
  • Sat
  • Sun
Rahukaal Today
7:28:07 - 9:07:15

8:31:22 - 9:51:45
Rahukaal Today
15:43:00 - 17:22:00

7:14:52 - 8:58:45
Rahukaal Today
12:26:00 - 14:06:00

12:19:30 - 13:57:22
Rahukaal Today
14:05:22 - 15:45:15

13:57:37 - 15:35:45
Rahukaal Today
10:46:15 - 12:26:00

10:42:30 - 12:15:00
Rahukaal Today
9:06:15 - 10:45:52

9:10:30 - 10:42:45
Rahukaal Today
17:23:37 - 19:03:00

16:50:00 - 18:22:00
There are no translations available.

देवी कुष्मांडा

माँ कूष्माण्डा देवी की पूजा से भक्त के सभी रोग नष्ट हो जाते हैं | माँ की भक्ति से आयु, यश, बल और स्वास्थ्य की वृद्धि होती है |

माँ दुर्गा के चौथे स्वरुप का नाम कूष्माण्डा है | अपनी मंद हंसी से ब्रह्माण्ड को उत्पन करने के कारण इन्हें कूष्माण्डा देवी ने नाम से जाना जाता है | संस्कृत भाषा में कूष्माण्ड कुम्हड़े की बलि इन्हें प्रिय है, इस कारण से भी इन्हें कूष्माण्डा के नाम से जाना जाता है | जब सृष्टि नहीं थी और चारो और अंधकार ही अंधकार था तब इन्होने ईषत हास्य से ब्रह्माण्ड की रचना की थी | यह सृष्टि की आदिस्वरूपा हैं और आदिशक्ति भी | इनका निवास सूर्य मंडल के भीतर के लोक में हैं | सूर्यलोक में निवास करने की क्षमता और शक्ति केवल इन्हीं में है | नवरात्रि के चौथे दिन कूष्माण्डा देवी के स्वरुप की पूजा की जाती है | साधक का मन इस दिन अनाहत चक्र में अवस्थित होता है | अतः इस दिन पवित्र मन से माँ के स्वरुप को धयान में रखकर पूजा करना चाहिए | माँ कूष्माण्डा देवी की पूजा से भक्त के सभी रोग नष्ट हो जाते हैं | माँ की भक्ति से आयु, यश, बल और स्वास्थ्य की वृद्धि होती हैं | इनकी आठ भुजायें हैं इसलिए इन्हें अष्टभुजा कहा जाता है |  इनके सात हाथों में कमंडल, धनुष, बाण, कमल, पुष्प, अमृतपूर्ण कलश, चक्र तथा गदा है | आठवें हाथ में सभी सिद्धियों और निधियों को देने वाली जपमाला है | कूष्माण्डा देवी अल्पसेवा और अल्पभक्ति से ही प्रसन्न हो जाती हैं | यदि साधक सच्चे मन से इनका शरणागत बन जाये तो उसे अत्यन्त सुगमता से परम पद की प्राप्ति हो जाती है |

दिल की बीमारी से बचने का उपाय

दिल की बीमारियों से बचने का उपाय भी आसान हैं .. लौंग, कपूर और अर्जुन के पेड़ की छाल की आहुति दें | और अपने घर में अशोक के पेड़ की बाईस पत्तियां तीन दिन तक रखें |

कैंसर से बचाव के उपाय

कैंसर बेशक बहुत ही खतरनाक बीमारी हैं लेकिन इससे  बचाव के उपाय आसान हैं .. लौंग, कपूर, कालीमिर्च जौ राई की आहुति देकर हवन कुण्ड अपने घर के दक्षिण-पश्चिम कोने में रखें |

ब्लड प्रेशर से बचने का उपाय

ब्लड प्रेशर से बचने के लिए 18 लौंग और 3 टुकड़े कपूर के साथ अश्वगंधा की आहुति दें | आहुति के लिए माटी का बर्तन ठीक रहेगा | आहुति देने के बाद पांच कदम उलटे चलनें चाहिये |

डायबिटीज से बचने का उपाय

रोगी के पलंग के पायें पर चांदी के तार से गोमती चक्र बांधें डायबिटीज में फायदा होगा |

 


नवरात्र के चौथे दिन होती है देवी कुष्मांडा की आराधना l ऐसी मान्यता है की देवी कुष्मांडा की हंसी से ही इस ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति हुई और अगर देवी कुष्मांडा खुश हो गई तो जीवन में कभी धन दौलत की कमी नहीं होती है l  माँ दुर्गा के चौथे स्वरूप का नाम कुष्मांडा है l अपनी मंद और हल्की मुस्कान से ब्रह्माण्ड को उत्पन्न करने के कारण ही इन्हें कुष्मांडा के नाम से जाना जाता है| माना जाता है की जब संसार का अस्तित्व नहीं था, चारो ओर अन्धकार ही अन्धकार था, तब देवी के कुष्मांडा स्वरुप ने ही अपनी मंद हंसी से संसार की रचना की थी इससे पहले ब्रह्माण्ड का अस्तित्व नहीं   था | सूर्य मण्डल में निवास करती है माँ  कुष्मांडा देवी के कुष्मांडा रूप का निवास सूर्य मण्डल के भीतर के लोक में है l  सूर्य लोक में निवास कर सकने की क्षमता और शक्ति केवल जगदम्बा कुष्मांडा में ही है l  कुष्मांडा देवी के शरीर की चमक भी सूर्य के समान ही है कोई और देवी देवता इनके तेज और प्रभाव की बराबरी नहीं कर सकतें l  माता कुष्मांडा तेज की देवी है इन्ही के तेज और प्रभाव से दसों दिशाओं को प्रकाश मिलता है  l कहते हैं की सारे ब्रह्माण्ड की सभी वस्तुओं और प्राणियों में जो तेज है वो देवी कुष्मांडा की देन है  l
कुष्मांडा देवी की आठ भुजाएं है इसलिए इन्हें अष्टभुजा देवी के नाम से जाना जाता है l  इनके साथ हाथो में कमंडल, धनुष बाण,कमल का फूल  , अमृत से भरा हुआ कलश, चक्र और गदा है आठवें हाथ में सभी सिद्धियों और निधियों को देने वाली जपमाला है देवी कुष्मांडा का वाहन सिंह है.
देवी के कुष्मांडा रूप की उपासना नवरात्र के चौथे दिन की जाती है माना जाता है की देवी का कुष्मांडा रूप साधकों की जिन्दगी से अंधकार को दूर करता है भक्तो के हर दुःख को हर लेता है और जो भी सच्चे दिल से माता को याद करता है उसके जीवन में पराक्रम और तेज की उत्पत्ति होती है |



माता कुष्मांडा देवी के उपाय :-

लक्ष्मी प्राप्ति का उपाय :-
 उपाय :- 1 पान में गुलाब की सात पंखुड़िया रखें और पान को देवी को चढ़ा दें .....आप को धन की प्राप्ति होगी |
उपाय :- 2  गुलाब की फूल में कपूर का टुकड़ा रखें ....शाम के समय फूल में एक कपूर जला दें ...और फूल देवी को चढ़ा दें ....इससे आपको अचानक धन मिल सकता है |
 उपाय :- 3  चौदह मुखी रुद्राक्ष सोने में जड़वा कर ....किसी पत्र में लाल फूल बिछाकर उस पर रखें ...दूध, दही, घी ,मधु, और गंगाजल से स्नान करायें .... धूप दीप से पूजा करके धारण करें |
उपाय :- 4 इमली के पेड़ की डाल काट कर घर में रखें या धन रखने की स्थान पर रखें तो धन की वृद्धि होगी |
उपाय :- 5 एक नारियल और उसके साथ एक लाल फूल, एक पीला, एक नीला फूल और सफ़ेद फूल माँ को चढ़ायें...नवमी के दिन ये फूल नदी में बहा दें और नारियल को लाल कपड़े में लपेट कर तिजोरी में रखें ...अखंड लक्षी की प्राप्ति होगी |
उपाय :- 6 धन प्राप्ति में किसी भी तरह की मुश्किल से बचने के लिये लौंग और कपूर में गन्ने का रस मिलकर माँ दुर्गा को आहुति दें |
उपाय :- 7 शाम को बेल के पेड़ की जड़ पर मिट्टी . इत्र , पत्थर और दही चढाएं , अगले दिन सुबह बेल के पेड़ की एक छोटी टहनी तोड़कर घर ले आएं और टहनी को तिजोरी में रखें |

 

राशि :-

मेष राशि - मेष राशि के लोगों को धन प्राप्ति में थोड़ी बहुत दिक्कत बनी रहेगी लेकिन चिंता न करें आपको कष्ट नहीं होंगे | खर्चे सेहत पर करने होंगे और कुछ इन्वेसमेंट प्रोपर्टी पर नजर आता है आपको धन लाभ के लिये थोड़ी कोशिश करनी होगी | धन प्राप्ति मन्त्र का पाठ पूर्व की ओर मुंह करके 24 बार रोज करें | 
वृष राशि - वृष राशि वालों के जीवनसाथी को भारी धन लाभ और राज्य लक्ष्मी की प्राप्ति होगी और इसका फायदा आपको भी होगा | सुरक्षित रास्तों से आमदनी बढ़ेगी, आपको माता की कृपा प्राप्त है | धन प्राप्ति मन्त्र का पाठ 21 बार रोज करें |
मिथुन राशि :- मिथुन राशि वाले अपने खर्च कम करें तभी धन बचेगा और घर में धन संपदा बढ़ेगी | आर्थिक फैसलों के मामलों में इष्ट मित्रो से सलाह करना बेहतर होगा, जल्दबाजी में कोई भी काम नुकसानदायक हो सकता है | इसलिये सावधान रहें | धन प्राप्ति मन्त्र का 21 बार जप ईशान दिशा की ओर मुंह करके रोज करें |
कर्क राशि :- कर्क राशि वालों को ननिहाल से मदद मिलेगी लेकिन आप अपना financial बजट बना लें तो आपके लिये  बेहतर होगा | इससे आप अपने खर्चों में भी कटौती कर सकते हैं | प्रतिदिन आमदनी लगातार घटेगी | अचानक धन हानि होने की संभावना है | नियमित मां की आराधना करें फायदा होगा | धन प्राप्ति मन्त्र को 51 बार रोज पढ़ें |
सिंह राशि :- सिंह राशि के लोगों को पराक्रम से संपत्ति प्राप्त होगी | आने वाले छ: महीने में भूमि, भवन और वाहन प्राप्त करने का प्रबल योग है | आप के लिये संयम बरतना और आमदनी को संयोजित करना उचित होगा | धन प्राप्ति मन्त्र का पाठ 27 बार रोज करें |
कन्या राशि :- कन्या राशि वालों को माता की कृपा का धन मिल रहा है | हालांकि पैसा हाथ का मैल है लेकिन ये मैल लगातार इकठ्ठा हो जायेगा | आने वाले समय में जमीन या वाहन खरीदने का योग है | धन प्राप्ति मन्त्र का जप उत्तर दिशा की ओर मुंह करके 54 बार करें | 
तुला राशि :- इस राशि वाले बेकार के खर्चों से बचे, अपने खर्चों को कंट्रोल करें इसी में आपकी भलाई है | अचानक होने वाले खर्च जमा पूंजी पर असर डाल सकते हैं ...अपनी आमदनी बढ़ाने की कोशिश कीजिये ...माँ की स्तुति जरुर काम आयेगी | धन प्राप्ति मन्त्र का पाठ 28 बार रोज करें |
वृश्चिक राशि :- वृश्चिक राशि वालों के खर्चे बढ़े रहेंगे हालाकि कोई भी खर्च फालतू नहीं होगा | धन के आभाव में कोई काम नहीं रुकेगा सभी काम आराम से पूरे होंगे | मां की आराधना करने से धन की प्राप्ति होगी | जीवन साथी के सहयोग से आर्थिक लाभ प्राप्त होगा | रोज धन प्राप्ति मन्त्र 41 बार पढने से लाभ होगा |
धनु राशि :- धनु राशि वालों को भारी धन लाभ का योग है | अचानक कहीं से ढेर सारा धन प्राप्त होने वाला है, जिसकी आपने कल्पना भी नहीं की होगी | जो खर्चे होंगे उनका सम्बन्ध खुशी और निर्माण से होगा | माता के दर्शन से फायदा होगा | धन प्राप्ति मन्त्र को उत्तर दिशा की ओर मुंह करके 25 बार रोज पढ़ें |
मकर राशि :- मकर राशि वालों के जीवन में थोड़ा संघर्ष है लेकिन चिंता की कोई बात नहीं है | कोशिश करने से हर संघर्ष का परिणाम सुखद होगा | मकर राशि वालों के लिये देवी का सन्देश है कि वो मेहनत करें | मेहनत करने से सभी मनोकामनायें पूरी होंगी | धन प्राप्ति मन्त्र को रोज 33 बार जरुर पढ़ें |
कुम्भ राशि :- कुम्भ राशि वालों को राज्य से आमदनी होगी | प्रमोशन और increment के जरिये income बढ़ेगी | थोड़ी मेहनत करने से सफलता जरुर हासिल होगी, माँ की कृपा आप पर लगातार बनी रहेगी | उत्तर की ओर मुंह करके 32 बार रोज धन प्राप्ति मन्त्र पढ़ें |  
मीन राशि :- मीन राशि वालों किस्मत से धन का छिका टूटने वाला है लेकिन थोड़ा सतर्क रहें छोटी सी गलती बड़ी समस्या बन सकती है | भाग्य आपके साथ है लेकिन अपने खर्चों पर थोड़ा नियंत्रण रखें आज की बचत कल काम आयेगी | जीवन में गुणात्मक परिवर्तन आयेगा | धन प्राप्ति मन्त्र को 27 बार रोज पढ़ें |

Share this post

Submit Devi Kushmanda in Delicious Submit Devi Kushmanda in Digg Submit Devi Kushmanda in FaceBook Submit Devi Kushmanda in Google Bookmarks Submit Devi Kushmanda in Stumbleupon Submit Devi Kushmanda in Technorati Submit Devi Kushmanda in Twitter