Rahukaal Today/ 25 February 2017 (Delhi)-3 March 2017

  • Mon
  • Tue
  • Wed
  • Thu
  • Fri
  • Sat
  • Sun
Rahukaal Today
8:12:52 - 9:39:45

8:31:22 - 9:51:45
Rahukaal Today
15:27:00 - 16:54:00

7:14:52 - 8:58:45
Rahukaal Today
12:33:00 - 14:00:15

12:19:30 - 13:57:22
Rahukaal Today
14:00:07 - 15:27:45

13:57:37 - 15:35:45
Rahukaal Today
11:04:15 - 12:32:00

10:42:30 - 12:15:00
Rahukaal Today
9:40:45 - 11:07:07

9:10:30 - 10:42:45
Rahukaal Today
16:53:22 - 18:20:00

16:50:00 - 18:22:00
15 सितम्बर 2016, अनन्त चतुर्दशी
There are no translations available.

समय पाय तरुवर फलहिं

इस खुबसूरत सी जिंदगी में जिसका हर पल आप के लिए महत्त्वपूर्ण है एक एक क्षण आप अपने जीवन को बनाने में लगा

देना चाहते है ऐसे में  कभी अगर आप को लगता है कि आप आगे बढ़ने के बजाय पीछे जा रहे है तो आज के दिन अनन्त

सुख सौभाग्य, राज पाट, मान, पद और प्रतिष्ठा पाने के लिए विष्णु पूजित अनन्ता बंधना ना भूलें

 


ईश्वर जगत में अनंत रुप में विद्यमान हैं। दुनिया के पालनहार प्रभु की अनंतता का बोध कराने वाला यह एक कल्याणकारी व्रत है, जिसे ”अनंत चतुर्दर्शी“ के रुप में मनाया जाता है। भारत के कई भागों में इस व्रत का चलन है। पूर्ण विश्वास के साथ व्रत करने पर यह अनंत फल प्रदान करता है। इस साल अनंत चतुर्दशी का पर्व 15 सितंबर को मनाया जाएगा। हिन्दू पंचांग के अनुसार भाद्रपद मास के शुक्लपक्ष की चतुर्दशी अनन्त चतुर्दशी के रुप में मनाई जाती है। इस दिन भगवान विष्णु की पूजा करते हैं और संकटों से रक्षा करने वाला अनन्त सूत्र बांधा जाता है इस दिन नमक रहित भोजन करने का विधान बताया गया है। अनंत चतुदर्शी के दिन पूजा का शुभ मुहूर्त सुबह 06ः09 से लेकर पूरे दिन चलेगा। अनंत चतुर्दशी व्रत की कथा भविष्य पुराण के अनुसार इस प्रकार है कि जब जुए में पांडव राजपाट हार कर जंगल में भटक रहे थे तब भगवान श्री कृष्ण ने उन्हें अनन्त चतुर्दशी का व्रत करने की सलाह दी। चतुर्मास में भगवान विष्णु शेषनाग की शैय्या पर अनंत शयन में रहते हैं। अनंत भगवान ने वामन रुप धारण करके दो पग में ही तीनों लोकों को नाप लिया था। इनके ना तो आदि का पता है न अंत का इसलिए भी यह अनंत कहलाते हैं। इनकी पूजा से सारे कष्ट समाप्त हो जाते है। युधिष्ठिर ने परिवार सहित यह व्रत किया और पुनः राज्यलक्ष्मी ने उन पर कृपा की। उन्हें अपना खोया हुआ राज-पाट फिर से मिल गया। इसी व्रत के प्रभाव से पांडव सभी कष्टों से मुक्त हुए और महाभारत के युद्ध में उन्हें विजय हुई थी। पुरुष दाएं तथा स्त्रियां बाएं हाथ में अनंत धारण करती हैं। अनंत रेशम के पीले रंग के धागे होते हैं और उनमें चैदह गांठे होती हैं। यह अनन्त सूत्र आप घर पर बना भी सकते है और बाजार से खरीद भी सकते है। आप की सुविधा के लिए शुद्ध पवित्र और पूजित अनन्त सूत्र आप हमारे कार्यालय से भी मंगा सकते है। यह व्यक्तिगत पूजा है, इसका कोई सामाजिक धार्मिक उत्सव नहीं होता। यह व्रत करने वाले को ”ऊँ अनन्ताय नमः“ मंत्र का जाप करें। अनंत चतुर्दशी का पर्व हिन्दुओं के लिए महत्त्वपूर्ण है। जैन धर्म के दशलक्षण पर्व का इस दिन समापन होता है। जैन अनुयायी श्रीजी की शोभायात्रा निकालते हैं और भगवान का जलाभिषेक करते हैं। व्रत के प्रभाव से उनका घर धन-धान्य से पूर्ण हो जाता है सदैव सुख सम्पन्नता बनी रहती है|

 

Time Matters

Life is beautiful. On the other hand, it is full of struggles and melancholies too. Our each and every second is important and plays significant role in our lives. Hence, we should devote ittowards the fulfilment of beautiful dreams. However, if you feel that despite of your hard endeavours, you are lagging behind instead of progressing, then you should offer your reverence to Lord Vishnu on AnantChaturdarshi. You will get all the luxuries, money, name and fame, good fortune, prosperityor anythingelse that you long for. Tie Ananat thread on your wrist that is blessed by Lord Vishnu.

 

 

God is omnipresent. Anant Chaturdarshi fast is of Lord Vishnu who runs this world and nurtures all the human beings on earth. The fast is celebrated with lots of pomp and show and enthusiasm across different parts of the world. All those who perform this fast with complete faith and devotion receive unlimited blessings of the lord. This year, the fast of AnantChaturdarshi will fall on 15th of September. According to Hindu Panchang, the fast will fall in the month of Bhadrapad on the 14thtithi of Shukla paksh. On this day people worship lord Vishnu and tie a sanctified thread on their wrist.This thread bestows all the good fortune and blesses the individual against all the ills and menaces.People should eat food devoid of salt. This year, auspicious time to carry all the rituals and reverence for Pooja is from 6:09 am till night. The story of AnantChaturdarshi states that when Pandav lost everything in gambling and were wandering in the dense forests undergoing sufferings, then Lord advised all of them to perform the fast of AnanthChaturdarshi. During Chaturmaas, Lord Vishnu lies on the bed of Sheshnaag. Furthermore, Lord Vishnu took Vamanroop and covered all the three lokas in 2 steps. Nobody knows his beginning or end, for this reason, he is called as 'Anant'. All those who revere Lord Vishnu bring their suffering to the end. Yudhishthira performed this fast with his whole family and got his empire, money and fame back again. As a result of this fast of AnanthChaturdarshi, pandavas got free from all the sorrows, anguishes and distress. Not only this, they were the winner of Mahabharata too. All the ladies tie this auspicious thread in their left hand while men tie it in their right hand. Ananth thread is a yellow coloured silken thread and has 14 knots in it. People can prepare this ananath sutra even at their homes. It is easily available in the market too. Furthermore, you can request this thread through our office by making a call as this pure, pious and revered anant thread is available with us. This is a Pooja that is done for the own welfare of the individual. AnanthChaturdarshi does not have any social or spiritual significance. The devotees should chant the mantra of- “Om Anantay Namah” The fast bears special significance for all the Hindus. Dashlakshan festival of Jain group comes to an end on this day. The followers of Jain religion celebrate this day with immense pomp and show. They sing song and walk on the streets with the shobhayatra of Shriji.They perform Jalabhishek of Lord Vishnu. As a result of this Jal Abhishek, the life of devotees gets fulfilled with health, wealth, name and fame and prosperity.

 

Share this post

Submit 15 सितम्बर 2016, अनन्त चतुर्दशी  in Delicious Submit 15 सितम्बर 2016, अनन्त चतुर्दशी  in Digg Submit 15 सितम्बर 2016, अनन्त चतुर्दशी  in FaceBook Submit 15 सितम्बर 2016, अनन्त चतुर्दशी  in Google Bookmarks Submit 15 सितम्बर 2016, अनन्त चतुर्दशी  in Stumbleupon Submit 15 सितम्बर 2016, अनन्त चतुर्दशी  in Technorati Submit 15 सितम्बर 2016, अनन्त चतुर्दशी  in Twitter