Rahukaal Today/ 09 AUGUST 2017 (Delhi)-15 AUGUST 2017

  • Mon
  • Tue
  • Wed
  • Thu
  • Fri
  • Sat
  • Sun
Rahukaal Today
7:28:07 - 9:07:15

8:31:22 - 9:51:45
Rahukaal Today
15:43:00 - 17:22:00

7:14:52 - 8:58:45
Rahukaal Today
12:26:00 - 14:06:00

12:19:30 - 13:57:22
Rahukaal Today
14:05:22 - 15:45:15

13:57:37 - 15:35:45
Rahukaal Today
10:46:15 - 12:26:00

10:42:30 - 12:15:00
Rahukaal Today
9:06:15 - 10:45:52

9:10:30 - 10:42:45
Rahukaal Today
17:23:37 - 19:03:00

16:50:00 - 18:22:00
LAKSHMI MAHASADHNA
There are no translations available.

लक्ष्मी महासाधना

कोजागरी यानी शरद पूर्णिमा की रात से दीपावली तक महालक्ष्मी मन्त्रों का अनुष्ठान करने से माता लक्ष्मी की असीम कृपा प्राप्त होती है | इस वर्ष शरद पूर्णिमा 27 अक्टूबर को है और दीपावली की रात 11 नवम्बर को है | यहाँ आपको हम लक्ष्मी महासाधना का एक प्रयोग बताते हैं |

इस मन्त्र में 17 अक्षर हैं | अक्षरों की संख्या के अनुसार मन्त्रों की जाप संख्या होती है | जाप का दशांश हवन करना चाहिए, उसका दशांश तर्पण करना चाहिए, उसका दशांश मार्जन करना चाहिए और यथाशक्ति ब्राह्मणों को दान करना चाहिए |

आप इतने झंझटों में मत पड़िये | आप सारे मन्त्रों का जाप कर लीजिये और आखिरी दिन प्रतीक रूप में हवन दीजिये |

मूल जाप                  -               17,000

दशांश हवन              -                1,700

दशांश तर्पण             -                170

दशांश मार्जन           -                 17

..............................

कुल जाप संख्या-              18,887

यानी आपको कुल 18,870 मन्त्र जपने हैं और दीपावली के दिन 17 मन्त्रों से आहुति देनी हैं | आपको जाप के लिए कुल सोलह दिन हैं, लेकिन आखिरी दिन को आप हवन के लिए रखिये | तो 18,870 भाग 15= 1258 मन्त्र रोज पढ़ने हैं | अब माला के हिसाब से 1258 भाग 108= 116 यानी 12 माला रोज | अगर आप माला से पढ़ रहे हैं तो 12 माला रोज पढ़िए और यदि आप ऊँगली से पढ़ रहे हैं तो 1258 माला रोज पढ़िए | अगर माला पर जाप कर रहे हैं तो कमलगट्टे की माला या स्फटिक की माला पर पर जाप करना चाहिए | रुद्राक्ष की माला पर भी जाप कर सकते हैं | जाप के समय उत्तर दिशा की ओर मुंह होना चाहिए और सफेद रेशमी आसान पर जाप करना अच्छा रहता हैं | दीपावली के दिन केसर युक्त दूध और चावल की खीर से 17 बार मन्त्र पढ़कर आहुति देना जरुरी हैं | आम की लकड़ी या चन्दन की समिधा पर हवन करना करना चाहिए |

मन्त्रः-

श्रीं श्रीं ह्रीं कमले कमलालये

प्रसीद-प्रसीद श्रीं ह्रीं श्री महालक्ष्म्यै |

Share this post

Submit LAKSHMI MAHASADHNA in Delicious Submit LAKSHMI MAHASADHNA in Digg Submit LAKSHMI MAHASADHNA in FaceBook Submit LAKSHMI MAHASADHNA in Google Bookmarks Submit LAKSHMI MAHASADHNA in Stumbleupon Submit LAKSHMI MAHASADHNA in Technorati Submit LAKSHMI MAHASADHNA in Twitter