Rahukaal Today/ 09 AUGUST 2017 (Delhi)-15 AUGUST 2017

  • Mon
  • Tue
  • Wed
  • Thu
  • Fri
  • Sat
  • Sun
Rahukaal Today
7:28:07 - 9:07:15

8:31:22 - 9:51:45
Rahukaal Today
15:43:00 - 17:22:00

7:14:52 - 8:58:45
Rahukaal Today
12:26:00 - 14:06:00

12:19:30 - 13:57:22
Rahukaal Today
14:05:22 - 15:45:15

13:57:37 - 15:35:45
Rahukaal Today
10:46:15 - 12:26:00

10:42:30 - 12:15:00
Rahukaal Today
9:06:15 - 10:45:52

9:10:30 - 10:42:45
Rahukaal Today
17:23:37 - 19:03:00

16:50:00 - 18:22:00
प्रदोष व्रत - मार्च 2017
There are no translations available.

सौभाग्य, समृद्धि और कल्याण

10 मार्च - शुक्र प्रदोष व्रत

हिंदू धर्म के अनुसार, कलियुग में प्रदोष व्रत अति मंगलकारी और शिव कृपा प्रदान करने वाला होता है । प्रदोष व्रत हर महीने दोनों पक्षों की त्रयोदशी तिथि को पड़ता है । सप्ताह के सातों दिन पड़ने वाले सभी प्रदोष व्रत का अपना एक अलग महत्व है । इस बार 10 मार्च को शुक्र प्रदोष व्रत पड़ रहा है । कहते हैं कि शुक्र प्रदोष व्रत करने से सौभाग्य, समृद्धि व कल्याण मिलता है । साथ ही धर्म, अर्थ, काम व मोक्ष की प्राप्ति होती है । इस दिन सुबह स्नान करके भगवान शंकर, पार्वती और नंदी को पंचामृत व गंगाजल से स्नान कराकर बेल पत्र, गंध, चावल, पुष्प, धूप, दीप, नैवेद्य, फल, पान, सुपारी, लौंग व इलायची चढ़ाएं । शाम के समय पुनः स्नान करके शिव जी की षोड्शोपचार (सोलह सामग्रियों) से पूजा करें और आठों दिशाओं में घी का दीपक जलाएं व शिव जी की आरती करें। इस तरह आपकी सारी मनोकामनाएं पूरी हो जायेंगी ।

 साढ़ेसाती और ढैय्या

25 मार्च - शनि प्रदोष व्रत

इस बार 25 मार्च को शनि प्रदोष व्रत पड़ रहा है । कहते हैं शनि का प्रकोप बहुत भयंकर होता है, लेकिन शनि प्रदोष व्रत करने से शनि देव का प्रकोप शांत हो जाता है । जिन लोगों पर साढ़ेसाती ढैय्या का प्रभाव हो, उनके लिए तो यह व्रत करना विशेष हितकारी है । इस दिन शनि से संबंधित चीजों जैसे लोहा, तेल, काला तिल, काली उड़द, कंबल आदि का दान करना चाहिए और व्रत करना चाहिए । शनि प्रदोष व्रत को संतान प्राप्ति का व्रत भी कहा जाता है । संतान की कामना रखने वाले दम्पति को शनि प्रदोष व्रत जरूर करना चाहिए । पति-पत्नी दोनों को सुबह स्नान के बाद मिलकर शिव जी, पार्वती और नंदी की पूजा करनी चाहिए। इसके बाद शनिदेव की पूजा करनी चाहिए । शाम को सूर्यास्त के बाद गोधूली के समय दोबारा शिव जी और शनिदेव की पूजा करने के बाद ही व्रत पूरा होता है । शनि प्रदोष के दिन ग्यारह बार दशरथकृत शनि स्त्रोत का पाठ भी करना चाहिए । इससे किसी अशुभ प्रभाव के कारण जीवन में आ रही परेशानी दूर हो जाती हैं ।

Share this post

Submit प्रदोष व्रत - मार्च 2017  in Delicious Submit प्रदोष व्रत - मार्च 2017  in Digg Submit प्रदोष व्रत - मार्च 2017  in FaceBook Submit प्रदोष व्रत - मार्च 2017  in Google Bookmarks Submit प्रदोष व्रत - मार्च 2017  in Stumbleupon Submit प्रदोष व्रत - मार्च 2017  in Technorati Submit प्रदोष व्रत - मार्च 2017  in Twitter